2

Intezar Shayari

intezar shayari

Intezar Shayari is poetry on waiting for someone, its often very sad and depressing poetry. We are providing a Simple and best collection of Intezaar Shayari among with pictures. if you are want to read in urdu you can at msk writes.

इंतज़ार है हमे आपके आने का,
वो नज़रे मिला के नज़रे चुराने का,
मत पूछ ए-सनम दिल का आलम क्या है,
इंतज़ारा है बस तुझमे सिमट जाने का.

intezaar hai hame aapke aane ka,
wo nazre mila ke nazre churane ka,
mat poch aye-sanam dil ka aalam kya hai,
intezaar hai bas tujhme simat jaane ka.


New Intezar Shayari

कब उनकी पलकों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा;
गुज़र रही है रात उनकी याद में;
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!

kab unki palko se izhaar hoga;
dil ke kisi kone me hamare liye pyaar hoga;
guzar rahi hai raat unki yaad me;
kabhi to unko bhi hamaara intezaar hoga!


तेरे इंतजार मे कब से उदास बैठे है
तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे है
तू एक नज़र हम को देख ले इस आस मे
कब से बेकरार बैठे है .

tere intezaar me kab se udaas baithe hai
tere deedaar me aankhe bichaaye baithe hai
too ek nazar ham ko dekh le is aas me
kab se beqaraar baithe hai .


मोहब्बत का नतीजा,
दुनिया में हमने बुरा देखा,
जिन्हे दावा था वफ़ा का,
उन्हें भी हमने बेवफा देखा.

mohabbat ka nateeja,
duniya me hamne bura dekha,
jinhe daawa tha wafa ka,
unhe bhi hamne bewafa dekha.


जिंदगी हे सफर का सील सिला,
कोइ मिल गया कोइ बिछड़ गया,
जिन्हे माँगा था दिन रत दुआ ओमे,
वो बिना मांगे किसी और को मिल गया.

zindagi hai safar ka sil sila,
koi mil gaya koi bichad gaya,
jinhe maanga tha din rat dua’o me,
wo bina maange kisi aur ko mil gaya.


आँखों मे आ जाते है आँसू,
फिर भी लबो पे हसी रखनी पड़ती है,
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो,
जिस से करते है उसीसे छुपानी पड़ती है

aankho me aa jaate hai aanso,
phir bhi labo pe hasi rakhni padti hai,
ye mohabbat bhi kya cheez hai yaaro,
jis se karte hai usise chupani padti hai


intezar shayari love

रोती हुई आँखो मे इंतेज़ार होता है,
ना चाहते हुए भी प्यार होता है,
क्यू देखते है हम वो सपने,
जिनके टूटने पर भी
उनके सच होने का इंतेज़ार होता है? ..

roti hui aankho me intezar hota hai,
na chahate hue bhi pyaar hota hai,
kyo dekhte hai ham wo sapne,
jinke tootne par bhi
unke sach hone ka intezaar hota hai? ..


याद तेरी आती है क्यो.यू तड़पाती है क्यो?
दूर हे जब जाना था.. फिर रूलाती है क्यो?
दर्द हुआ है ऐसे, जले पे नमक जैसे.
खुद को भी जानता नही, तुझे भूलाऊ कैसे?

yaad teri aati hai kyo.yoo tadpaati hai kyo?
door hi jab jaana tha.. phir rolati hai kyo?
dard hua hai aise, jale pe namak jaise.
khud ko bhi jaanta nahi, tujhe bholao kaise?


इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियो की आदत हो गयी है,
न सीकवा रहा न शिकायत किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है..!

intezaar ki aarzoo ab kho gayi hai,
khamoshiyo ki aadat ho gayi hai,
na sikhva raha na shikayat kisi se,
agar hai to ek mohabbat,
jo in tanhaiyo se ho gai hai..!


निकलते है तेरे आशिया के आगे से,
सोचते है की तेरा दीदार हो जायेगा,
खिड़की से तेरी सूरत न सही
तेरा साया तो नजर आएगा

niklate hai tere aashiya ke aage se,
sochte hai ki tera deedaar ho jaayega,
khidki se teri soorat na sahi
tera saaya to nazar aaega


हमारे बिन अधूरे तुम रहोगे,
कभी चाहा था किसी ने,तुम ये खुद कहोगे,
न होगे हम तो किसी ने ,तुम ये खुद कहोगे,
मिलेगे बहुत से लेकिन कोई हम सा पागल ना होगा.

hamare bin adhoore tum rahoge,
kabhi chaha tha kisi ne,tum ye khud kahoge,
na hoge ham to kisi ne ,tum ye khud kahoge,
milege bahut se lekin koi ham sa paagal na hoga.


intezar shayari 2 line

intezar shayari in hindi

तेरे इंतजार में यह नज़रें झुकी है,
तेरा दीदार करने की चाह जागी है,
ना जानू तेरा नाम, ना तेरा पता
ना जाने क्यूँ इश्स पागल दिल में
एक अंजानी सी बेचैनी जागी है !

tere intezaar me yah nazre jhuki hai,
tera deedaar karne ki chah jaagi hai,
na jaano tera naam, na tera pata
na jaane kyo is paagal dil me 
ek anjaani si bechaini jaagi hai !


जीना चाहता हूँ मगर जिनदगी राज़ नहीं आती ,
मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती ,
उदास हूँ इस जिनदगी से , क्युकी उसकी यादे भी तो
तरपाने से बाज नहीं आती ..

jeena chahata ho magar zinadagi raaa nahi aati ,
marna chahata ho magar maut paas nahi aati ,
udaas ho is zinadagi se , kyuki uski yaade bhi to
tadpaane se baaz nahi aati ..


इंतेज़ार रहता है हर शाम तेरा,
रातें काट ते है ले ले के नाम तेरा,
मुद्दत से बैठी हू ये आस पाले,
शायद अब आ जाए कोई पैगाम तेरा

intezaar rahta hai har shaam tera,
raate kaat te hai le le ke naam tera,
muddat se baithi hoo ye aas paale,
shaayad ab aa jae koi paigaam tera


किसी को मेरी याद आए एक अरसा हुआ,
कोई है हैरान तो कोई तरसा हुआ.
इस तरह खामोश हैं ये दिल ये आँखे मेरी,
जैसे खामोश हो कोई बदल बरसा हुआ.

kisi ko meri yaad aae ek arsa hua,
koi hai hairaan to koi tarsa hua.
is tarah khamosh hai ye dil ye aankhe meri,
jaise khamosh ho koi badal barsa hua.


इंतज़ार तो हम भी काइया करते हैं
आपसे मिलने की आस काइया करते हैं
मेरी याद हिचक़ियो की मोहताज़ नही
हम तो आपको सांसो से याद करते हैं

intezaar to ham bhi kaiya karte hai
aapse milne ki aas kiya karte hai 
meri yaad hichkiyo ki mohtaaj nahi
ham to aapko saanso se yaad karte hai


intezar shayari image

intezar shayari 2 line

फूलो से सजे गुलशन की ख्वाइश थी हमें,
मगर जीवनरूपी बाग़ में खिल गए कांटे.
अपना कहने को कोई नहीं है यहाँ,
दिल के दर्द को हम किसके साथ बांटे

phoolo se saje gulashan ki khwaish thi hame,
magar jeevanroopi baag me khil gae kaante.
apna kahne ko koi nahi hai yahaa,
dil ke dard ko ham kiske saath baante


वो कह कर गया था मैं लौटकर आउंगा;
मैं इंतजार ना करता तो क्या करता;
वो झूठ भी बोल रहा था बड़े सलीके से;
मैं एतबार ना करता तो क्या क्या करता।

wo kah kar gaya tha mai lautkar aaunga;
mai intezaar na karta to kya karta;
wo jhooth bhi bol raha tha bade saleeqe se;
mai aeitebaar na karta to kya kya karta.


इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा
यादें काटती हैं ले-ले के नाम तेरा
मुद्दत से बैठे हैं तेरे इंतज़ार में
कि आज आयेगा कोई पैगाम तेरा!

intezaar rahta hai har shaam tera
yaade kaatti hai le-le ke naam tera
muddat se baithe hai tere intezaar me 
ki aaj aayega koi paigaam tera!


बहुत हो चुका इंतेज़ार उनका,
अब और ज़ख़्म सहे जाते नही,
क्या बयान करें उनके सितम को,
दर्द उनके कहे जाते नही

bahut ho chuka intezaar unka,
ab aur zakhm sahe jaate nahi,
kya bayaan kare unke sitam ko,
dard unke kahe jaate nahi


भले ही राह चलते का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतेज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू जान ले..

bhale hi raah chalte ka daaman thaam le,
magar mere pyaar ko bhi too pahchan le,
kitna intezaar kiya hai tere ishq me,
zara yah dil ki betaabi too jaan le..


aapka intezar shayari

intezar shayari pic

ज़िंदगी हसीन है ज़िंदगी से प्यार करो,
है रात तो सुबह का इंतज़ार करो,
वो पल भी आएगा जिसका इंतज़ार है आप को,
रब पर भरोसा और वक़्त पे ऐतबार रखो

zindagi haseen hai zindagi se pyaar karo,
hai raat to subah ka intezaar karo,
wo pal bhi aayega jiska intezaar hai aap ko,
rab par bharosa aur waqt pe aitabaar rakho


कौन कहता है इश्क़ मे बस इकरार होता है
कौन कहता है इश्क़ मे बस इनकार होता है,
तन्हाई को तुम बेबसी का नाम ना दो,
क्यूंकी इश्क़ का दूसरा नाम ही इंतेज़ार होता है

kaun kahta hai ishq me bas iqraar hota hai
kaun kahta hai ishq me bas inkaar hota hai,
tanhai ko tum bebasi ka naam na do,
kyuki ishq ka doosra naam hi intezaar hota hai


इस नज़र को तेरा इंतेज़ार रहता है
दिल तुमसे मिलने को बेक़रार होता है
तुम हमसे मिलो ना मिलो फिर भी इस दिल मैं
तेरी दोस्ती का प्यार रहता है

is nazar ko tera intezaar rahta hai
dil tumse milne ko beqaraar hota hai
tum hamse milo na milo phir bhi is dil me
teri dosti ka pyaar rahta hai


अपने जज़्बात दफ़न किए बैठे हैं.
दिल के अरमान छुपाए बैठे हैं.
थक गये हैं अपनी इस ज़िंदगी से.
अब मौत का इंतेज़ार किए बैठे हैं.

apne jazbaat dafan kiye baithe hai.
dil ke armaan chupae baithe hai.
thak gaye hai apni is zindagi se.
ab maut ka intezaar kiye baithe hai.


बदलना आता नही हमको मौसमो की तरह,
हर एक रूप में तेरा इंतजार करते है,
ना तुम समेत सकोगी जिसे क़यामत,
कसम तुम्हारी तुम्हे इतना प्यार करते है.

badalna aata nahi hamko mausamo ki tarah,
har ek roop mei tera intezaar karte hai,
na tum samet sakogi jise qayaamat,
qasam tumhari tumhe itna pyaar karte hai.


intezar shayari roman english

intezar shayari image

नज़र चाहती है दीदार करना,
दिल चाहता है प्यार करना,
क्या बतायें इस दिल का आलम,
नसीब में लिखा है इंतेज़ार करना.

nazar chahati hai deedaar karna,
dil chahata hai pyaar karna,
kya bataaye is dil ka aalam,
naseeb me likha hai intezaar karna.


होश ओ ख़िरद गँवा के तिरे इंतिज़ार में गुम
कर दिया है ख़ुद को ग़मों के ग़ुबार में

hosh o khirad ganva ke tere intezaar me gum
kar diya hai khud ko gamo ke gubaar me


हो चली ख़त्म इंतिज़ार में उम्र
कोई आता नज़र नहीं आता

ho chali khatm intezaar me umr
koi aata nazar nahi aata


आदत बदल दू कैसे तेरे इंतेज़ार की
ये बात अब नही है मेरे इकतियार की
देखा भी नही तुझ को फिर भी याद करते है
बस ऐसी ही खुश्बू है दिल मे तेरे प्यार की

aadat badal doo kaise tere intezaar ki
ye baat ab nahi hai mere iktiyaar ki
dekha bhi nahi tujh ko phir bhi yaad karte hai
bas aisi hi khushbo hai dil me tere pyaar ki


intezar shayari sad

Din me yaad usko ek baar nahi 100 baar karte the
yeh jante hue ki uski yaad hi aayegi phir bhi intezaar karte the.
par jab uss bedard ghamandi se hi chot khai hamne
tab hosh aya ki, hum to kisi pathar se pyaar karte the.


intezar mein

Ho gayi shaam kisi ke intezar me,
Dhal gayi raat usi ke intezar me,
Fir hoga sawera usi ke intezar me,
Intezar ki aadat pad gayi hai intezar me…


Amanat Hai Zindagi

aye Mout zara Thahar Ja, zara Sa Ruk Ja Tu,
Intezaar Hai Unka, Jinki Amanat Hai Zindagi,
zara Unse Rukhsat Le Lene De, Fir Le Chalna,
Yeh zaruri Hai, Unhi Ki Badolat Hai Zindagi…

intezar shayari sms

intezar shayari pic

aye Mout Thahar Ja Tu zara,
Yaar Ka Intezaar Hai Mujhko,
Aayega Woh zarur Aaj Agar,
Us Se Sacha Pyar Hai Mujhko…


Rahte Hain

Gahraai Ka Shoq Kise Hai,Hum To Kinaare Par Hi Rahte Hai,
Kisi Galti Ka Aham Nahi Mujhe,Kisi Ke Sahare Hi Rahte Hai,
Teri kaaynaat Me Thodi Jagah De Aye Khuda,
Intezaar, Tere Ishaare Par Hi Rahte Hai….


Tera Intezar Rehta Hai

Is Nazar Ko Tera Intezar Rehta Hai
Dil Tumse Milne Ko Beqaraar Hota Hai
Tum Hamse Milo Na Milo Phir Bhi is Dil Me 
Teri Dosti Ka Pyar Rehta Hai…


Tera Intezar Shayari

Zindagi Haseen Hai Zindagi Se Pyaar Karo,
Hai Rat To Subah Ka Intzar Karo,
Wo Pal Bhi Ayega Jiska Intezaar Hai Aap Ko,
Rab Pr Bhrosa Or Waqt Pe Aitbar Rakho…


Tere Liye

Intezar Ki Ab Toh Intehaa Ho Gai Hai,
Kitna Aankho Ko Ruulaye Tere Liye,
Mitti Ka Khilona Ban Gaya Hai,
Bas Tut Ke Judhna Aa Jaye Tere Liye…


Daaman Tham Le

Bhale Hi Raah Chalto Ka Daaman Tham Le,
Magar Mere Pyar Ko Bhi Tu Pahchan Le,
Kitna Intezaar Kiya Hai Tere Ishq Me,
zara Yeh Dill Ki Betaabi Tu Jaan Le..


2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *