5

Gulzar Shayari

gulzar shayari

Gulzar Shayari available in Hindi, Urdu and Roman scripts. Gulzar sir shayari quotes about the life,love and romanatic poems.

ना दूर रहने से रिश्ते टूट जाते हैं
ना पास रहने से जुड़ जाते हैं
यह तो एहसास के पक्के धागे हैं
जो याद करने से और मजबूत हो जाते हैं

na door rahne se rishte toot jaate hai
na paas rahne se jud jaate hai
yeh to ehsaas ke pakke dhaage hai
jo yaad karne se aur mazboot ho jaate hai


Hi, dear ones! today i am going to share with you gulzar sir shayari in hindi language and hinglish also which is unique and very rare available on internet as of today. if you are coming to this post by searching on the internet as gulzar shayari in hindi then this is best result for you. mostly peoples read zindagi shayari when they are upset with there life and want to express there feelings. if you want to read shayari in urdu language you can read here.

New Gulzar shayari

तुझे बेहतर बनाने कि कोशिश में
तुझे ही वक़्त नहीं दे पा रहे हम
माफ़ करना ए-जिंदगी
तुझे ही जी नहीं पा रहे हम

tujhe behtar banane ki koshish me
tujhe hi waqt nahi de pa rahe ham
maaf karna aye-zindagi
tujhe hi jee nahi pa rahe ham


याददाश का कमजोर होना
कोई बुरी बात नही जनाब
बहुत बेचैन रहते है वो लोग
जिन्हें हर बात याद रहती है

yaadaash ka kamzor hona
koi buri baat nahi janaab
bahut bechain rahte hai wo log
jinhe har baat yaad rahti hai


वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मैं साल अपने बढ़ा रहा था

wo umr kam kar raha tha meri
mai saal apne badha raha tha


बहुत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायतें जो बयाँ नही होती

bahut andar tak jala deti hai,
wo shikaayate jo bayaan nahi hoti


काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

kaanch ke piche chand bhi tha aur kanch ke upar kaai bhi
teeno the ham wo bhi the aur mai bhi tha tanhai bhi


Gulzar shayari in hindi

shayari gulzar

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

yoon bhi ek baar to hota ki samundar bahta
koi ehsaas to dariya ki ana ka hota


कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

koi atka hua hai pal shaayad
waqt me pad gaya hai bal shaayad


जाने किस जल्दी में थी जन्म दिया, दौड़ गयी
क्या खुदा देख लिया था कि मुझे छोड़ गयी

jaane kis jaldi me thi janm diya, daud gayi
kya khuda dekh liya tha ki mujhe chod gayi


शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है
वक़्त रहता नहीं कहीं थमकर
इस की आदत भी आदमी सी है

shaam se aankh me nami si hai
aaj phir aap ki kami si hai
waqt rahta nahi kahi thamkar
is ki aadat bhi aadmi si hai


आदतन तुम ने कर दिए वादे
आदतन हम ने ऐतबार किया
तेरी राहो में बारहा रुक कर
हम ने अपना ही इंतज़ार किया
अब ना मांगेंगे जिंदगी या रब
ये गुनाह हम ने एक बार किया

aadatan tum ne kar diye waade
aadatan ham ne aitabaar kiya
teri raaho me baaraha ruk kar
ham ne apna hi intezaar kiya
ab na mangenge zindagi ya rab
ye gunaah ham ne ek baar kiya


देखो, आहिस्ता चलो, और भी आहिस्ता ज़रा
देखना, सोच-सँभल कर ज़रा पाँव रखना,
ज़ोर से बज न उठे पैरों की आवाज़ कहीं.
काँच के ख़्वाब हैं बिखरे हुए तन्हाई में,
ख़्वाब टूटे न कोई, जाग न जाये देखो,
जाग जायेगा कोई ख़्वाब तो मर जाएगा

dekho, aahista chalo, aur bhi aahista zara
dekhna, soch-sambhal kar zara paav rakhna,
zor se baj na uthe pairo ki aawaaz kahi.
kaanch ke khwaab hai bikhre hue tanhai me,
khwaab toote na koi, jaag na jaaye dekho,
jaag jaayega koi khwaab to mar jaega


Gulzar shayari lyrics

gulzar

मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू ,
सुना है आबशारों को बड़ी तकलीफ़ होती है|
खुदारा अब तो बुझ जाने दो इस जलती हुई लौ को ,
चरागों से मज़ारों को बड़ी तकलीफ़ होती है|

machal ke jab bhi aankho se chalak jaate hai do aansoo ,
suna hai aabsharo ko badi takleef hoti hai|
khudara ab to bujh jaane do is jalti hui lau ko ,
chirago se mazaaro ko badi takleef hoti hai|


इस दिल का कहा मनो एक काम कर दो
एक बे-नाम सी मोहब्बत मेरे नाम करदो
मेरी ज़ात पर फ़क़त इतना अहसान कर दो
किसी दिन सुबह को मिलो, और शाम कर दो

is dil ka kaha mano ek kaam kar do
ek be-naam si mohabbat mere naam kardo
meri zaat par faqat itna ehsaan kar do
kisi din subah ko milo, aur shaam kar do


एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद
दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं

ek sapne ke tootkar chaknachoor ho jaane ke baad
doosra sapna dekhne ke hausle ka naam zindagi hai


तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं

tere jaane se to kuch badla nahi,
raat bhi aayi aur chand bhi tha, magar neend nahi


तन्हाई की दीवारों पर
घुटन का पर्दा झूल रहा हैं,
बेबसी की छत के नीचे,
कोई किसी को भूल रहा हैं

tanhai ki deewaaro par
ghutan ka parda jhool raha hai,
bebasi ki chat ke neeche,
koi kisi ko bhool raha hai


Gulzar shayari in hindi 2 lines

बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला
जब से डिग्रियां समझ में आयी पांव जलने लगे हैं

bachpan me bhari dupahari me naap aate the poora mohalla
jab se digriya samajh me aayi paav jalne lage hai


gulzar shayari images

समेट लो इन नाजुक पलो को
ना जाने ये लम्हे हो ना हो
हो भी ये लम्हे क्या मालूम शामिल
उन पलो में हम हो ना हो

samet lo in naazuk palo ko
na jaane ye lamhe ho na ho
ho bhi ye lamhe kya maalom shamil
un palo me ham ho na ho


उन्हें ये जिद थी कि हम बुलाये
हमें ये उम्मीद थी कि वो पुकारे
हैं नाम होंठो पे अब भी लेकिन
आवाज में पड़ गयी दरारे

unhe ye zid thi ki ham bulaaye
hame ye ummid thi ki wo pukaare
hain naam hontho pe ab bhi lekin
aawaaz me pad gayi daraare


बहुत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायतें जो बयाँ नही होती

bahut andar tak jala deti hai,
wo shikaayate jo bayaan nahi hoti


कहू क्या वो बड़ी मासूमियत से पूछ बैठे है ,
क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तकलीफ़ होती है
तुम्हारा क्या तुम्हें तो राहे दे देते हैं काँटे भी ,
मगर हम खांकसारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

kaho kya wo badi maasomiyat se pooch baithe hai ,
kya sachmuch dil ke maaro ko badi takleef hoti hai
tumhara kya tumhe to raahe de dete hai kaante bhi ,
magar ham khakasaro ko badi takleef hoti hai


आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

aaina dekh kar tasalli hui
ham ko is ghar me jaanta hai koi


Gulzar shayari quotes hindi

सहर न आई कई बार नींद से जागे
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले

sahar na aai kai baar neend se jaage
thi raat raat ki ye zindagi guzaar chale


shayari

जब भी ये दिल उदास होता है,
जाने कोन दिल के पास होता है!

jab bhi ye dil udaas hota hai,
jaane kon dil ke paas hota hai!


सफल रिश्तों के बस यही उसूल है,
बातें भूलिए जो फिजूल है!!

safal rishto ke bas yahi usool hai,
baate bholiye jo fuzool hai!!


कभी ज़िन्दगी एक पल में गुज़र झाती है,
कभी ज़िन्दगी का एक पल नहीं गुज़रता!

kabhi zindagi ek pal me guzar jhati hai,
kabhi zindagi ka ek pal nahi guzarta!


हमने अक्सर तुम्हारी राहों में,
रूककर अपना ही इंतज़ार किया

hamne aksar tumhari raaho me,
rook kar apna hi intezaar kiya


दर्द की भी अपनी एक अदा है,
वो भी सहने वालों पर फ़िदा है!

dard ki bhi apni ek ada hai,
wo bhi sahne waalo par fida hai!


Gulzar shayari on eyes

mausam ka gurur to dekho,
tumse mil ke aaya ho jaise!


aankho me kuch aur bhi hai

meri khaamoshi me sannaata bhi hai, shaur bhi hai…
toone dekha hi nahi aankho me kuch aur bhi hai!


waado par baras bitae

jhoote tere waado par baras bitae,
zindagi to kati bas ab yah raat kat jae


gajab ka hamsafar

mil gaya hoga koi gazab ka hamsafar,
warna mera yaar yoo badle waala nahi tha!


Gulzar shayari download

Aisa koi zindagi se wada na tha
Tere bina jeene ka irada to nahi tha


Teri yaado ka kaarobar

Bahut mushkil se karta hu
Teri yaado ka kaarobar
Munafa kam hai
Par guzara ho hi jaata hai

hindi gulzar shayari

us ke pairo me

Bahut chaale hai us ke pairo me
Kambhakhat usoolo par chala hoga


talab ho tum

Meri rooh ki talab ho tum
Kaise kaho alag hu tum


gulzar shayari images

Kuch adhore se lag rahe ho aaj
Lagta hai kisi ki kami si hai


badla toh nahi

Tere jaane se kuch badla toh nahi
Raat bhi aai thi, aur chand bhi tha

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *